विकास

विकास को प्रभावित करने वाले कारक

विकास को प्रभावित करने वाले कारक कई होते हैं लेकिन ये विकास को नियंत्रित भी रखते हैं।इनके कुछ महत्वपूर्ण कारक हैं:

  • वंशानुक्रम Heredity
  • वातावरण Environment
  • बुद्धि Intelligence
  • लिंग Gender
  • अन्तःस्रावी ग्रंथियां Endocrine Glands
  • जन्म क्रम Birth Rate
  • भयंकर चोट एवं रोग Terrible Diseases and Injury
  • शुद्ध वायु एवं प्रकाश  Fresh Air and Light
  • पोषाहार Balance Diet
  • प्रजाति Species

CTET, TET, बी.एड. परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण

विकास को प्रभावित करने वाले कारकों की व्याख्या:

वंशानुक्रम बालक के विकास को प्रभावित करते हैं ये वंशानुक्रम में उपलब्ध गुण एवं क्षमताओं पर निर्भर करता है। जब बालक गर्भ में रहता है तभी से बालक में पैतृक कोशों का आरम्भ हो जाता है और यहीं से बालक की बुद्धि और विकास की सीमाएं सुनिश्चित हो जाती है। बालक के कद, आकृति, बुद्धि, चरित्र आदि सम्बन्धी विशेताएं वंशानुक्रम से प्रभावित हो जाती है और ये पीढ़ी-दर-पीढ़ी चलती है।

विकास को प्रभावित करने वाले कारक में वातावरण Environment

विकास को प्रभावित करने वाले कारक
Photo by Yasmin Dangor on Unsplash

वातावरण के प्रभाव से व्यक्ति अनेक तरहों से प्रभावित होते हैं तथा उनमें अनेक विशेषताओं का विकास होता है।  वातावरण का प्रभाव बालक के ऊपर उसके शैशवावस्था से ही होने लगता है। बालक के जीवन दर्शन एवं शैली का स्वरुप, स्कूल, समाज, पड़ोस तथा परिवार के प्रभाव के परिणाम स्वरुप स्पष्ट होता है। आगे चलकर बालक वातावरण को प्रभावित करने की क्षमता विकसित कर लेता है।

विकास को प्रभावित करने वाले कारक में बुध्दि Wisdom

बुध्दि Intelligent
बुध्दि wisdom

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार: कुशाग्र बुद्धि वाले बालकों का शारीरिक तथा मानसिक विकास मंद बुद्धि वाले बालकों की अपेक्षा तेजी से होता है। कुशाग्र बुद्धि वाले बालक शीघ्र बोलना और चलना सीख लेते हैं।

  • प्रतिभाशली बालक 11 माह
  • सामान्य बुद्धि बालक 16 माह की उम्र में तथा
  • मंद बुद्धि बालक 24 में बोलना सीखते हैं।

हालाँकि अपवाद तो हमें हर जगह मिल ही जाता है। जो बच्चे देरी से बोलना सीखते हैं एक समय के बाद उन्हें भी कुशाग्र बुद्धि के तौर पर विकसित होते हुए देखा गया है।

लिंग Gender

लिंग भेद का प्रभाव भी स्पष्ट रूप से विकास के ऊपर पड़ता है। बालकों का शरीर जन्म के समय बालिकाओं से बड़ा होता है लेकिन बाद में बालिकाओं में शारीरक विकास तेजी से होता है। बालिकाओं में मानसिक एवं यौन परिपक्वता बालकों से पहले आती है।

विकास को प्रभावित करने वाले कारक में अन्तः स्रावी ग्रंथियां Endocrine Glands

अंत:स्रावी तंत्र छोटे अंगों की एक एकीकृत प्रणाली है जिससे बाह्यकोशीय संकेतन अणुओं हार्मोन का स्राव होता है। अंत:स्रावी तंत्र शरीर के चयापचय, विकास, यौवन, ऊतक क्रियाएं और चित्त (मूड) के लिए उत्तरदायी है। बालक के शरीर में अनेक अन्तः स्रावी ग्रंथियां होती हैं जो विशिष्ट रस का स्त्राव करते हैं। यदि ये ग्रंथियां सही तरीके से न करें तो बालक का विकास प्रभावित होता है। उदाहरण स्वरुप अवटुका ग्रंथि (थाइराइड) बढ़ जाने से शरीर का रक्तचाप तथा धड़कन में अनियंत्रण आ जाती है। अगर थाइराइड से निकलने वाले थाइरॉक्सिन हार्मोन में कमी रह जाती है तो बालक बौना रह जाता है।

CTET, TET, बी.एड. परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण

जन्म-क्रम Birth Rate

जन्म-क्रम भी बालक के विकास को प्रभावित करते हैं।  अध्यनो से पता चला है की पहले जन्म लेने वाले बालक के अपेक्षा बाद में जन्म लेने वाले बालक का विकास जल्दी हो पाता है। इसके पीछे कारण यह है की बाद में जन्म लेने वाले बालक प्रथम जन्म लेने वाले बालक से अनुकरण करके जल्द विकास करते हैं।

भयंकर चोट एवं रोग Terrible Diseases and Injury

शरीर में ऐसे  कई स्थान हैं जहाँ चोट लगने से मनुष्य बहुत बुरी तरह से प्रभावित होते हैं। मष्तिष्क एक ऐसा ही अंग है जहाँ चोट लगने विकास में बाधा आ सकती है। कई भयंकर बीमारियां भी हैं जो जो वकास को प्रभावित करते हैं। लम्बे समय तक रहने वाली बीमारियां विकास को प्रभावित करते हैं।

पोषाहार Balance Diet

पोषाहार में कमी रह जाने से बच्चे कुपोषित हो जाते हैं, उनका शारीरिक तथा मानसिक विकास सही ढंग से नहीं हो पाता। सन १९५५ में वाटरलू ने इन बातों को अफ़्रीका तथा भारत में  किए गए अपने अध्यनों से पता लगाया था।

शुद्ध वायु एवं प्रकाश Fresh Air and Light

आजकल प्रदुषण की समस्या बहुत बढ़ चुकी है। अगर शुद्ध वायु एवं प्रकाश नहीं मिले तो बालकों का विकास सही ढंग से नही हो पाता है।

प्रजाति Species

अध्यनों से पता चला है की प्रजाति विकास को प्रभावित करते हैं। उत्तरी यूरोप के बच्चे भूमध्यसागरीय बच्चों से ज्यादा विकास करते हैं।

One thought on “विकास को प्रभावित करने वाले कारक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *